मुनस्यारी हिल स्टेशन 2020: बेस्ट ऑफ मुनस्यारी/ मुनस्यारी कैसे पहुंचे?

By | March 26, 2020

मुनस्यारी हिल स्टेशन 2020/Munsiyari Hill Stasion 2020

पंचाचूली की पहाड़ियां

                                                       पंचाचूली की पहाड़ियां, मुनस्यारी

बेस्ट ऑफ मुनस्यारी 2020

उत्तराखंड की हसीन वादियों में बसा है मुनस्यारी हिल स्टेशन। कुदरत की कारीगरी का ऐसा बेमिसाल नमूना है मुनस्यारी, कि देखने वालों की जुबां से बस एक ही शब्द निकले वाह ! हिमालय बेइंतहा खूबसूरत है, इतना कि देखने में एक उम्र छोटी पड़ जाए।

कुदरत जब देती है तो खजाना खोल देती है। रंग कुछ इस कदर भरती है चप्पे-2 पर कि तारीफ के लिए अल्फ़ाज कम पड़ जाएं।  अपनी इसी खूबसूरती की वजह से मुनस्यारी को मिनी कश्मीर के नाम से जाना जाता है।

पंचाचूली टॉप मुनस्यारी

                                                   सुबह के समय पंचाचूली की मनमोहक पहाड़ियां,

चारों तरफ से पहाड़ों से घिरा हुआ है मुनस्यारी। जिसके एक तरफ तिब्बत तो दूसरी ओर नेपाल। उत्‍तराखण्‍ड के  पिथौरागढ़ जिले में अवस्थित मुनस्यारी जोहार घाटी के मुहाने पर बसा है। मुनस्यारी शहर समुद्र तल से 2200 मी0 की ऊंचाई पर बसा 8-9 गांवों का समूह है। यहां आकर लगता है कि भारत के दूसरे छोर पर आ गये। जहां से तिब्बत और नेपाल साफ़-2 दिखते हैं।

गोरी गंगा मुनस्यारी से होकर बहती है। गोरी गंगा का उद्गम मिलम ग्लेशियर मुनस्यारी से सिर्फ 66 किमी0 दूर है। मुनस्यारी के सामने हिमालय की पंचाचूली की पहाड़ियां हैं, जो पूरे साल बर्फ से ढ़की रहती हैं।

सुबह की धूप के साथ ही इन पहाड़ियों का रंग भी बदलता है जो सूरज ढ़लने तक इस कदर सुनहरी हो जाती हैं कि जैसे उनसे सोना पिघल रहा हो। इस कारण इन्हें रंग बदलने वाली पहाड़ियां भी कहा जाता है।

मुनस्यारी में हो रही है साल 2020 की पहली बर्फबारी

यदि आप बर्फबारी का आनंद लेना चाह रहे हैं तो इस साल यानि 2020 की पहली बर्फबारी की शुरुआत हो चुकी है। कल यानि 21 नवंबर 2020 को एक फेसबुक मित्र के जरिये यह पता चला कि सीजन की पहली बर्फ गिर चुकी है। यह आप सभी घुमक्कड़ों के लिए खुश करने वाला समाचार है। तो दोस्तों देर मत कीजिए। बांधिए अपना सामान और निकल लीजिए मुनस्यारी की तरफ, वहां बर्फ से ढ़के रास्ते और वादियां आपका इंतजार कर रही हैं।

पंचाचूली का महाभारत से संंबंध

महाभारत के अनुसार पंचाचूली Panchchuli  वे पहाड़ियां हैं जहां से पांड़वोंं ने स्वर्गारोहण किया था। इन्हीं पहाड़ियों पर द्रोपदी, नकुल, सहदेव, अर्जुन और भीम गिर गये थे और धर्मराज युधिष्ठर के लिए स्वर्ग से विमान आया था। स्थानीय कथाओं के अनुसार पांड़वों ने इन पहाड़ियों पर पाॅंच चूल्हे बनाए थे इसी कारण इनका नाम पंचाचूली पड़ा।

आज़ादी के बाद साल 1962 तक यह भारत और चीन के बीच व्यापार के लिए एक बेस की तरह इस्तेमाल किया जाता था लेकिन 1962 में इंड़ो-चाइना युद्ध के बाद भारत और तिब्बत का व्यापार बंद हो गया। 

मुनस्यारी के आसपास दर्शनीय स्थलय/ Best of Munsiyari

कालामुनि टॉप मुनस्यारी हिल स्टेशन

                                                                 कालामुनि टॉप मुनस्यारी हिल स्टेशन

मुनस्यारी के आसपास तमाम ऐसे स्थान मिल जाएंगे जो आपको अपनी खूबसूरती से मोह लेंगे। मुनस्यारी से महज 34 किमी0 दूर घने जंगलों मेे बिरथी फाल को देखने हर साल हज़ारों की तादाद में पर्यटक आते हैं। 

बिरथी 2200 मीटर की ऊंचाई पर बसा एक छोटा सा गांव है। पर्यटन के लिए आने वाले यात्री बिरथी को इसी फॉल की वजह से जानते हैं। मुनस्यारी हिल स्टेशन के सड़क मार्ग से जुड़ने के बाद बिरथी के बारे में पर्यटकों को जानकारी मिलने लगी। बिरथी फाल को मुनस्यारी के करीब आने वाली सबसे खूबसूरत जगहों में शामिल किया है।

मुनस्यारी हिल स्टेशन की प्रसिद्दि के बाद बिरथी फाल देखने वालों की संख्या में भी इजा़फा दर्ज किया गया है। मानसून के दौरान यहां बिरथी फाल में पानी की अधिकता होने की वजह से नज़ारा रोमांचित करने वाला होता है। जो सिर्फ यहां आकर ही महसूस किया जा सकता है।

 

मुनस्यारी हिल स्टेशन 2020: बेस्ट ऑफ मुनस्यारी/ मुनस्यारी कैसे पहुंचे? 1 मुनस्यारी हिल स्टेशन 2020: बेस्ट ऑफ मुनस्यारी/ मुनस्यारी कैसे पहुंचे?

                                                                       बिरथी फॉल मुनस्यारी

बिरथी फाल के अलावा कालामुनि मंदिर भी आपकी इस यात्रा को यादगार बना देगा। माता काली का यह मंदिर आध्यात्मिक शांति के लिए बहुत प्रसिद्ध  है। 9500 फीट ऊंचाई पर प्राकृतिक  आनन्द का अलग ही अनुभव होता है

नंदा देवी मंदिर मुनस्यारी

नंदा देवी मंदिर

नंदा देवी Nanda Devi मंदिर मुनस्यारी के सबसे प्रसिद्ध स्थानों में से एक है। मुनस्यारी मुख्य शहर से नंदा देवी मंदिर की दूरी लगभग 3 किमी है। समुद्र तल से 7500 फीट की ऊंचाई पर स्थित यह मंदिर आकार में छोटा लेकिन बहुत खूबसूरत है।

जिसे देखने हर साल हजारों की संख्या में स्थानीय और बाहरी पर्यटक आते हैं। पंचाचूली की पहाड़ियां देखने के लिए नंदा देवी टॉप सबसे उपयुक्त स्थानों में से एक है। मुख्य सड़क से मात्र 200 मी की ट्रैकिंग करके नंदा देवी मंदिर पहुंचा जा सकता है।

कैसे पहुंचें मुनस्यारी हिल स्टेशन How to reach Munsiyari Hill Station?

यूं तो साल के 12 महीने आप मुनस्यारी जा सकते हैं, लेकिन मई से अक्टुबर का महीना सर्वोत्तम है। यदि आपको बर्फ और बर्फ के खेल पसंद हैं, तो सर्दियों में जाना ज्यादा मुनासिब है।

चमकती हुई चोटियां आपके ज़ेहन को कभी न भूलने वाली यादें दे जाएंगी। इसके अलावा पहाड़ों पर चढ़ाई के बाद हरी मखमली घास के बुग्याल, साफ़ आसमान अनायास ही दिल खुश कर देते हैं।

मुनस्यारी के सबसे नजदीक खलिया टॉप है। कस्तूरी मृग और मोनाल पक्षी इन्हीं दिलकश वादियों और बुग्यालों में पाये जाते हैं। कस्तूरी हिरन जिनके बारे में माना जाता है कि उनकी नाभि में कस्तूरी होता है। जो बहुत ही सुगंधित होता है। जिस औषधि के रूप में भी प्रयोग किया जाता है। उत्तराखंड में  समतल घास के मैदानों को बुग्याल कहा जाता है।

कस्तूरी हिरन, उत्तराखंड

कस्तूरी हिरन उत्तराखंड

काठगोदाम तक आप रेल और सड़क के रास्ते जा सकते हैं। यहां से आगे पहाड़ी रास्तों पर सड़क ही एकमात्र साधन है। काठगोदाम से मुनस्यारी के बीच लगभग  280 किमी की दूरी है। अगर आप भारत के अन्य राज्यों या शहरों से आ रहे हैं तो गूगल मैप की सहायता ले सकते हैं। 

मुनस्यारी का खानपान

लिख कर रख लो तिमूर की चटनी सिर्फ और सिर्फ मुनस्यारी में ही मिलेगी। तिमूर एक पहाड़ी पौधा है जिसके दानों को सिलबट्टे पर पीस कर चटनी तैयार की जाती है। इसके अलावा भांग की चटनी नीबू के साथ उसका जायका ही बढ़ा देती है। नॉनवेज के शौकीन अर्जी और गित्कू आजमा सकते है। यह कुछ मोमो और सूप के जैसे ही हैं। 

आसानी से मिल जाएंगे किफ़याती होम स्टे 

होटल, लॉज, और पर्यटक आवास के अतिरिक्त आपको मुनस्यारी के नज़दीकी सरमोली गांव में 40 होम स्टे मिल जाएंगे। जो पर्यटकों के लिए विशेष तौर पर विकसित किए गये हैं।

ये किफायती होम स्टे आपका मन मोह लेंगे। अन्य विकल्पों में PWD और वन विभाग के बंगले ऑनलाइन बुक किये जा सकते हैं। कुल जमा बात इतनी है कि 2020 में सैर-सपाटे के लिए मुनस्यारी उत्तराखंड के 10 टूरिस्ट स्पॅाट में से एक है।

 

अन्य ब्लॉग भी पढ़ें

Everest base camp trek

kedarnath yatra in 2020

महासू देवता मंदिर हनोल

धारचूला पर्यटन स्थलः2020,ओम पर्वत का बेसकैंप

गलवान घाटी विवाद क्या है?

श्री पद्मनाभ स्वामी मंदिर केरल, दुनिया का सबसे अमीर मंदिर

#RJ VIVEK

 

PC- GOOGLE IMAGES

 

15 thoughts on “मुनस्यारी हिल स्टेशन 2020: बेस्ट ऑफ मुनस्यारी/ मुनस्यारी कैसे पहुंचे?

    1. Vivek Singh Post author

      सर कोरोना के बाद प्लान कर सकते हैं। आपने mysolotraveler.com पर समय दिया उसके लिए धन्यवाद।

      Reply
  1. अम्बरीश त्रिपाठी

    विवेक जी, बहुत ही सुंदर लेख। बधाई आपको।

    Reply
  2. Santosh Kumar Singh

    इन दर्शनीय स्थानों की जानकारी बेहद अच्छी लगी lआगे भी इस तरह की जानकारियां देते रहें

    Reply
    1. Vivek Singh Post author

      हम इस दिशा में बेहतर प्रयास के लिए कटिबद्ध हैं। धन्यवाद।

      Reply
  3. U K singh

    Really blog.. written very beautifully..Keep posting your experience..All the best.

    Reply
  4. U K singh

    Really good blog.. written very beautifully..Keep posting your experience..All the best.

    Reply
  5. जसबीर सिंह

    बहुत ही अच्छा बहुत सुंदर

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *