Time Capsule kya hai/टाइम कैप्सूल क्या है

By | July 28, 2020

Time Capsule kya hai/टाइम कैप्सूल क्या है..

मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम के मंदिर के निर्माण की तिथि घोषित होने के बाद रामभक्तों के हृदयों में अपार हर्ष है। इसके साथ ही जब लोगों ने सुना की मंदिर की नींव में 200 फुट की गहराई में टाइम कैप्सूल डाला जाएगा तो लोगों की उत्सुकता इस बात को लेकर बढ़ गयी कि टाइम कैप्सूल क्या है/ Time capsule kya hai?आप की जिज्ञासा को ध्यान में रखकर हम टाइम कैप्सूस से संबंधित सवालों के जवाब देने का प्रयास करेंगे।

 

Time capsule kya hai

                                                                       टाइम कैप्सूल प्रतीक चिन्ह

Time Capsule kya hai/टाइम कैप्सूल क्या है

जिसे लेकर लोगों में इतनी उत्सुकता है..

Time Capsule विशेष तरह के कॉपर का बना एक कंटेनर होता है। यह पूरी तरह से वेदर प्रूफ यानि किसी भी तरह के मौसम की मार को हजारों साल तक झेलने में सक्षम है। इसकी लंबाई लगभग 3 फुट होती है। इस कंटेनर के अंदर किसी भी तरह के संदेश को जमीन की गहराई में सुरक्षित रखा जा सकता है। जिसे हजारों साल के बाद भी उसी रूप में वापस निकाला जा सकता है।

राम मंदिर अयोध्या प्रतीक चित्र

                                                राम मंदिर अयोध्या प्रतीक चित्र

भगवान राम के इसी प्रस्तावित मंदिर में टाइम कैप्सल डालने की चर्चा इन दिनों हर किसी की जुबान पर है। 5 अगस्त 2020 को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी मंदिर के शिलान्यास के साथ ही टाइम कैप्सूल भी जमीन में 200 फुट की गहराई में डालेंगे।

क्या है टाइम कैप्सूल डालने का उद्देश्य

जिस तरह भगवान राम की जन्मभूमि का निर्धारण करने में लगभग 500 साल लग गये। सरकार अब नहीं  चाहती कि  भविष्य में इस तरह का कोई दूसरा विवाद हो। जब कभी आवश्यकता होगी तो इस टाइम कैप्सूल की सहायता से पूरी जानकारी मिल जाएगी। प्रस्तावित राम मंदिर में टाइम कैप्सूल डालने की पुष्टि राम जन्मभूिम तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य कामेश्वर चौपाल ने समाचार एजेंसी ANI को किया।

भारत में और कहां-2 है टाइम कैप्सूल

ऐसा नहीं है कि सिर्फ भगवान राम के मंदिर में ही टाइम कैप्सूल पहली बार डाला जा रहा है। इससे पहले भी साल 1973 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने भी 15 अगस्त 1973 को लाल किले के पास टाइम कैप्सूल डाला था। जिसे लेकर काफी विवाद हुआ था। जिसमें कहा गया कि इंदिरा जी के उस टाइम कैप्सूल में सिर्फ उनके परिवार और कांग्रेस पार्टी का ही महिमामंडन किया गया था।

बाद के प्रधानमंत्री मुरारजी देसाई ने वह टाइम कैप्सूल निकलवाकर देखा लेकिन उसमें क्या लिखा था यह आज तक पता नहीं चल सका।

साल 2010 में IIT कानपुर में भी राष्ट्रपति डॉ0 प्रतिभा देवी पाटिल ने एक टाइम कैप्सूल डाला था। इसके अलावा चन्द्रशेखर आजाद कृषि विश्वविद्यालय में भी टाइम कैप्सूल डाला गया है। पूरे देश में लगभग आधा दर्जन जगहों पर इससे पहले टाइम कैप्सूल डाले जा चुके हैं।

कहां मिला है दुनिया का सबसे पुराना Time capsule

दुनिया का सबसे पुराना टाइम कैप्सूल  नवंबर 2017 में स्पेन के बर्गीस में नि30काला गया है। यह ईसा मसीह की मूर्ति के रूप में निकला था। इस कैप्सूल को करीब 400 साल पुराना बताया जा रहा है। इससे उस समय के राजनीतिक सामाजिक और आर्थिक हालात के बारे में जानकारी मिलती है। इसके अलावा दुनिया के और किसी हिस्से में किसी अन्य टाइम कैप्सूल पाये जाने का जिक्र नहीं है।

# Rj Vivek

Read other Bloggs

गलवान घाटी विवाद क्या है?

श्री पद्मनाभ स्वामी मंदिर केरल, दुनिया का सबसे अमीर मंदिर

मुनस्यारी हिल स्टेशन 2020: बेस्ट ऑफ मुनस्यारी/ मुनस्यारी कैसे पहुंचे?

Living Root Bridge या जीवित पुल कहां हैं?

धारचूला पर्यटन स्थलः2020,ओम पर्वत का बेसकैंप

महासू देवता मंदिर हनोल

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

2 thoughts on “Time Capsule kya hai/टाइम कैप्सूल क्या है

  1. Santosh Kumar Singh

    टाइम कैप्सूल रखना बहुत जरूरी है। वरना आज की राजनीति में कुछ भी संभव है।👍

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *